Bel Patra Importance, Benefits, Story: सावन में भगवान् शिव पर बेलपत्र चढ़ाने के महत्व, जाने यहाँ

बेलपत्र (Bel Patra) कितना महत्वपूर्ण है? सावन में बेलपत्र चढ़ाने से क्या होता है? भगवान् शिव और बेलपत्र से जुडी कहानी (Bel Patra Story) क्या है?

अगर आपके भी बेलपत्र से और उसके कहानी और महत्वपूर्णता से जुड़े है ये सारे सावल तो आये आज हम इस लेख में आपके इन् सभी सवालो का जवाब जानते है!


WhatsApp Group

Join Now

Telegram Group

Join Now

 

बेल पत्र का महत्व (Bel Patra Importance) 

Bel Patra Importance, Benefits, Story
Bel Patra Importance, Benefits, Story

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव को बेलपत्र चढ़ाना शुभ माना जाता है (Bel Patra Importance) और जानकारों की मानें तो अगर सही तरीके से बेलपत्र चढ़ाया जाए तो इससे मनोकामनाएं भी पूरी होती हैं। मनुष्य ही नहीं बल्कि देवता भी बेलपत्र के वृक्ष को पूजते हैं। कहा जाता है कि बेल पत्र का पत्ता शिव की ऊर्जा को अवशोषित करता है और जब इसे भगवान को अर्पित किया जाता है, तो उपासक इसमें से कुछ हिस्सा अपने साथ घर ले जाते हैं। कहा जाता है कि बेलपत्र के पत्ते भगवान शिव को प्रिय हैं. तीन पत्ती वाला बेल पत्र त्रिमूर्ति का प्रतीक है: ब्रह्मा, विष्णु और महेश (शिव)। शास्त्रों के अनुसार बेलपत्र की तीन पत्तियां भगवान शिव की तीन आंखों का भी प्रतिनिधित्व करती हैं।

भगवान शिव और बेल पत्र की कहानी (Bel Patra Story)

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, माना जाता है कि बेल पत्र (Bel Patra Story) ने पूरे ब्रह्मांड का निर्माण किया है। समुंदर मंथन के दौरान, जब देवताओं और राक्षसों दोनों ने समुद्र मंथन किया, तो इस दौरान कई चीजें निकलीं और उनमें से एक जहर था। संसार को बचाने के लिए भगवान शिव ने यह विष पी लिया, लेकिन विष का प्रभाव इतना तीव्र था कि वे बेचैन हो गये। और उनके गले से में तीव्र जलन होने लगा तभी माँ पार्वती के पसीने की बूंदें मंद्रांचल पर्वत पर गिरीं, जहां से बिल्व वृक्ष निकला। तभी उस बिल्वा पेड़ से उसके पत्ते को शिव जी के गले में रखा गया और खिलाया गया जिससे उनकी गले की जलन सांत हुई! उसी बिल्वा पेड़ के पत्ते को हम सभी बेलपत्र के नाम से जानते और पूजते है!

बेल पत्र के पौधे के फायदे (Bel Patra Benefits)

बेल पत्र (Bel Patra Benefits) के पेड़ की त्वचा, जड़ें, फल और पत्तियां सभी का उपयोग विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। पवित्र वृक्ष से मसूड़ों से खून आना, अस्थमा, पीलिया, पेचिश, एनीमिया और कई अन्य बीमारियों को ठीक किया जा सकता है। पत्तियों के एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण कई संक्रमणों के इलाज में मदद करते हैं। इसके अलावा, पत्तियों का अर्क खराब कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करता है। उच्च रेचक सामग्री रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करती है। पत्तियों का उपयोग त्वचा पर चकत्ते और अधिक पसीने को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है। आयुर्वेद के अनुसार, बेल पत्र का रस पीने से बालों के झड़ने की समस्या दूर होती है और सूखे बाल मुलायम होते हैं।

सावन में चढ़ाने का महत्व (Bel Patra Sawan Importance)

कहा जाता है सावान में बेल पत्र (Bel Patra Sawan Importance) चढाने के विषेश फल मिलते है. सावन में यदि आप शिव भगवान को बेलपत्र अर्पित करते है तो शिव जी इससे अत्यंत खुश होते है और इससे आपकी घर की सुख समृद्धि बनी रहती है और आपकी सारी मनोकामनाये पूर्ण होती है!

 

ALSO READ:

3 thoughts on “Bel Patra Importance, Benefits, Story: सावन में भगवान् शिव पर बेलपत्र चढ़ाने के महत्व, जाने यहाँ”

Leave a Comment