Eye Flu In Hindi: जानिए क्यों फ़ैल रहा है यह आई फ्लू, कैसे बच सकते हैं?

Eye Flu In Hindi: आई फ्लू, जिसे कंजंक्टिवाइटिस भी कहा जाता है, एक आम समस्या है जो तब होती है जब आपकी आंख का सफेद हिस्सा लाल हो जाता है और उसमें सूजन आ जाती है। यह कीटाणुओं या अन्य बीमारियों के कारण हो सकता है, और आई फ्लू विभिन्न प्रकार के होते हैं जैसे वायरल, बैक्टीरियल और एलर्जिक। यह लेख आपको आई फ्लू के बारे में वह सारी जानकारी देगा जो आपको जानने के लिए आवश्यक है।


WhatsApp Group- और अपडेटस के लिए ग्रुप से जुड़े

Join Now

Telegram Group

Join Now

 

What is Eye Flu?

Eye Flu
—–Eye Flu

आई फ्लू, या नेत्रश्लेष्मलाशोथ, तब होता है जब आपकी आंख का सफेद हिस्सा लाल और फूला हुआ हो जाता है। इससे आपकी आंखों में खुजली हो सकती है और यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंच सकता है। आई फ्लू विभिन्न प्रकार के होते हैं, जैसे वायरल, बैक्टीरियल और एलर्जिक। यह आमतौर पर तब होता है जब कोई रोगाणु आपकी आंख को छूता है, लेकिन यह अन्य बीमारियों से भी फैल सकता है।

फ्लू होने के कारण?- Eye Flu Causes

ऑय फ्लू के कई कारण हो सकते है, जिसमे की शामिल है:

वायरल इन्फेक्शन (Viral Infection)

वायरल इन्फेक्शन Eye Flu के  सबसे आम कारणों में से एक है। वायरस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से आँखों के फ्लू का शुरुआती लक्षण होता है।

बैक्टीरियल इन्फेक्शन (Bacterial Infection)

बैक्टीरियल इन्फेक्शन भी Eye Flu का कारण बन सकता है। इसमें आँख के पानी के इलावा दूसरे तत्वों के इलावा दूसरे तत्वों के साथ संक्रमण हो सकता है।

एलर्जी (Allergy)

धूल, धूम्रपान, फूलों के बुढ़बुढ़ाने आदि के प्रति एलर्जी होने पर भी आँखों में इंफेक्शन हो सकता है।

बाह्य ग्रहण संक्रमण (External Eclipse Infection)

कई बार आँखों में फुलाएं और धूल आदि आने से भी फ्लू हो सकता है।

आँखों के फ्लू के पहचाने के लक्षण- Eye Flu Symptoms

आँखों के फ्लू के कुछ प्रमुख लक्षण हैं जिनसे इसे पहचाना जा सकता है:

  • आंखों का लाल होना।
  • आंखों के नीचे या ऊपर की पलकों में सूजन।
  • आंखों से पानी या कृमित द्रव निकलना।
  • आंखों में खुजली और जलन।
  • अनिद्रा और खांसी।
  • आंखों के चारों ओर चक्कर आना।

फ्लू के विभिन्न प्रकार- Eye Flu Types

आई फ्लू कई तरह का होता है, जैसे सर्दी-जुकाम भी अलग-अलग तरह का होता है। कुछ वायरस के कारण होते हैं, कुछ बैक्टीरिया के कारण और कुछ एलर्जी के कारण होते हैं:

वायरल फ्लू (Viral Flu)

वायरल फ्लू एक सामान्य प्रकार का आई फ्लू है जो तब होता है जब कोई वायरस आपकी आंख में चला जाता है। ऐसा आमतौर पर तब होता है जब कोई संक्रामक चीज़ आपकी आंख को छू लेती है।

बैक्टीरियल फ्लू (Bacterial Flu)

बैक्टीरियल फ्लू आँखों के फ्लू का एक और प्रकार है जो आँख के पानी के इलावा दूसरे तत्वों के साथ संक्रमण होने पर होता है।

एलर्जीक फ्लू (Allergic Flu)

धूल, धूम्रपान, फूलों के बुढ़बुढ़ाने आदि के प्रति एलर्जी होने पर भी आँखों में इंफेक्शन हो सकता है। यह आँखों की परतों के इंफ्लेमेशन के कारण होता है।

आँखों के फ्लू से बचने के उपाय और उपचार- Eye Flu Treatment

Eye Flu Treament: ऑय फ्लू से बचने और इलाज के लिए कुछ उपाय हैं जिन्हें आप अपना सकते हैं:

  • हमेशा साफ-सुथरी रहें और हाथों को धोते रहें।
  • अनावश्यक संपर्क से बचें।
  • आंखों को गर्म पानी से धोने से बचें।
  • अपने हाथों से आंखों को न छुएं।
  • चश्मा और संपर्क लेंस का ध्यान रखें और उन्हें नियमित रूप से साफ करें।
  • आंखों को गुलाब जल से साफ करें।
  • आंखों के आसपास आलू को लगाएं।
  • आंखों में खीरा के स्लाइस रखें।
  • धूप में बाहर जाने से बचें।
  • आंखों को स्क्रैचिंग से बचाएं।

आँखों का फ्लू कैसे फैलता है? Eye Flu Causes In Hindi

Eye Flu Spread: आई फ्लू एक ऐसी बीमारी है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैल सकती है। यदि कोई व्यक्ति जिसके पास यह है वह अपनी आंखों को छूता है और फिर किसी और को छूता है, तो वह व्यक्ति भी बीमार हो सकता है। इससे बीमारी के अन्य लोगों में फैलने की संभावना अधिक हो जाती है।

आँखों के फ्लू के लिए अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना आवश्यक है। यदि आप इसे नजरअंदाज करेंगे तो यह और भी बढ़ सकता है और आपकी दिनचर्या को प्रभावित कर सकता है। इसलिए, इसे समय रहते ठीक करवाना महत्वपूर्ण है।

ALSO READ:

 

 

 

1 thought on “Eye Flu In Hindi: जानिए क्यों फ़ैल रहा है यह आई फ्लू, कैसे बच सकते हैं?”

Leave a Comment